15 अप्रैल से चलने वाली ट्रेनों में सभी कोच स्लीपर श्रेणी के, नहीं होंगे एसी कोच

221 views

अश्वनी शुक्ला,दिल्ली। कोविद 19 महामारी के कारण देशभर में लॉक डाउन किया गया था, जिसके बाद रेलवे ने अपनी तमाम मेल, एक्सप्रेस और पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया था। रेलवे मंत्रालय ने 15 अप्रैल से संभावित ट्रेन परिचालन को लेकर कोरोना वायरस संबंधी प्रोटोकॉल तैयार कर लिए हैं। जिसके अनुसार रेल यात्रियों को ट्रेन छूटने से 4 घंटे पूर्व स्टेशन पहुंचना होगा। स्टेशन पर यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। स्टेशन पर प्रवेश के दौरान रेल यात्रियों को मास्क व दस्ताने दिया जाएगा। इसके लिए रेलवे यात्रियों को मामूली शुल्क देना होगा। स्टेशन व ट्रेन में यात्रियों के लिए मास्क लगाना ज़रूरी होगा। रेल कर्मचारियोंको भी मास्क व दस्ताने पहनना जरुरी होगा। स्टेशन पर केवल आरक्षित टिकट वाले यात्री ही प्रवेश कर सकेंगे। प्लेटफार्म टिकट बिक्री बंद होगी।

भारतीय रेलवे के दस्तवेजो के अनुसार, ट्रेन में एसी कोच की व्यवस्था नहीं होगी सिर्फ स्लीपर श्रेणी की ही व्यवस्था की जाएगी। यात्री को यात्रा से 12 घंटे पूर्व अपनी स्वास्थय रिपोर्ट रेलवे को देना अनिवार्य होगा। कोरोना महामारी के लक्षण पाए जाने पर यात्री को बीच सफर में रेल से ज़बरदस्ती उतार दिया जाएगा। यात्री को 100 फीसदी रिफंड वापस दिया जाएगा। यात्रियों को पूरी तरह से सेल्फ डिस्टन्सिंग का पालन करने के निर्देश दिए जायेंगे।

ट्रेन के सभी चारो दरवाजे बंद रहेंगे। जिससे गैर जरुरी व्यक्ति का प्रवेश नहीं हो सकेगा। ट्रैन बिना रुके नॉन स्टाप चलेगी। जरुरत के मुताबिक एक अथवा दो स्टेशनों पर रोका जायेगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने हेतु ट्रेन की कोच की साइड बर्थ खाली रहेगी । इसके अलावा एक केबिन में सिर्फ दो यात्री सफर करेंगे। कोच के अंदर बाहरी वेंडर का प्रवेश पूरी तरह से मना होगा। यदि किसी यात्री में खांसी, जुकाम, बुखार आदि जैसे कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं तो रेलवे कर्मचारी द्वारा ऐसी यात्री को बीच रास्ते में ट्रेन रुकवा कर नीचे उतार दिया जाएगा। वेटिंग टिकट रद्द की जाएँगी।

रेलवे अधिकारी के अनुसार, ट्रेन परिचालन संबंधी इस प्रोटोकॉल को कोरोना पर गठित मंत्रियों के निर्देश अनुसार यथावत अथवा बदलाव के साथ लागू किया जायेगा । उत्तर भारत में 307 ट्रेन चलायी जाने की योजना की गई है। जिसमे 133 ट्रेन में सीटे हाउसफुल होने के कारण लंबी वेटिंग है।

Related Posts

About The Author

Add Comment