चेन्नई के ब्लॉगर ने ढूंढ निकाला चंद्रयान 2(chandrayaan2) के लैंडर का पता

393 views

कहते है ना मन के हारे हार मन के जीते जीत, इस बात को सच कर दिखाया इसरों ने 22 जुलाई को चांद के दक्षिणी हिस्से की जानकारी लेने उसकी सतह पर भेजे चंद्रयान2 (chandrayaan2) को सफलता मिलते-मिलते रह गई क्योंकि चांद की सतह पर चंद्रयान2 (chandrayaan2) को उतरना था, उसकी सटीक जानकारी इसरों के पास ना होते हुए भी उन्होंने यह रिस्क लिया था जिसमें इसरों 90 प्रतिशत तक सफल रहा, लेकिन 10 प्रतिशत उसकी चांद की इस सतह के बारे में सटीक जानकारी ना होने पर आखिरी वक्त में चंद्रयान 2 का यान विक्रम लैंडर अपनी राह भटक कर सॉफ्ट लैंडिग की जगह चंद्र की सतह पर हार्ड लैंडिग की.

जिसके बाद भी इसरों ने उम्मीद रखी की शायद कुछ टाइम बाद  उनकी उम्मीद को बल मिले. 8 सितंबर 2019 को इसरो के जरिए सूचना दी गई कि आर्बिटर के जरिए लिए गए ऊष्मा चित्र से विक्रम लैंडर का पता चल गया है। परंतु अभी चंद्रयान2 (chandrayaan2) से संपर्क नहीं हो पाया है।

पर हाल फिलहाल ख़बर है कि चंद्रमा की सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हुए चंद्रयान2 (chandrayaan2) के विक्रम लैंडर को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के एक उपग्रह ने सोमवार को ढूंढ निकाला है. नासा ने अपने लूनर रेकॉन्सेन्स ऑर्बिटर (एलआरओ) के जरिए ली गई एक तस्वीर जारी की है, जिसमें अंतरिक्ष यान से प्रभावित जगह दिखाई पड़ी है। बता दें कि इसे खोज निकालने में चेन्नई के एक  इंजीनियर और ब्लॉगर शनमुगा सुब्रमण्यम ने मदद की है. शनमुगा सुब्रमण्यम का कहना है कि उन्होंने इसे चुनौती के रूप में लेते हुए खुद से इसकी खोज शुरू कर दी थी.

गौरतलब है कि शनमुगा ने यह काम नासा के जरिए 26 सितंबर को साइट की एक मोज़ेक इमेंज जारी की थी और लोगों को लैंडर के संकेतों को खोज करने के लिए आमंत्रित किया। जिसके तहत शनमुगा ने इस कार्य को करने के की मन में ठानी और चांद की सतह पर विक्रम लैंडर के अंश ढूंढने में सफलता हासिल की थी.

Related Posts

About The Author

Add Comment